रुद्रप्रयाग में दर्दनाक सड़क हादसा..पिता की मौत, बेटी की हालत गंभीर

वाहन चालक नागेंद्र पहले पंजाब में जॉब करता था। लॉकडाउन में उसकी नौकरी चली गई। तब नागेंद्र गांव लौटकर गाड़ी चलाने लगा। उसने कुछ दिन पहले ही बोलेरो वाहन खरीदा था। आगे पढ़िए पूरी खबर

पहाड़ी रास्तों पर सफर सुरक्षित नहीं रह गया है। जगह-जगह से सड़क हादसों की दिल दहला देने वाली तस्वीरें आ रही हैं। ताजा मामला रुद्रप्रयाग जिले का है। जहां जाखतोली के पास बड़ा सड़क हादसा हो गया। यहां तेज रफ्तार बोलेरो वाहन एक खेत में जाकर पलट गया। हादसे में एक व्यक्ति की मौत हो गई। मृतक की 9 साल की बेटी समेत दो लोग गंभीर रूप से घायल हैं। घायलों का रुद्रप्रयाग के अस्पताल में इलाज चल रहा है। हादसे के वक्त वाहन में चालक समेत 3 लोग सवार थे। हादसे में जान गंवाने वाले व्यक्ति की शिनाख्त जाखतोली के दशज्यूला कांडई में रहने वाले संजय कांडपाल के रूप में हुई। वो 42 साल के थे। वहीं वाहन चालक नागेंद्र पुत्र अतर सिंह बैंजी काण्डई का निवासी है। हादसे के वक्त बोलेरो में संजय कांडपाल, उनकी 9 साल की बेटी रुचि और चालक सवार थे। हादसा बुधवार सुबह करीब 8 बजे हुआ। दशज्यूला क्षेत्र के कुछ लोगों ने देहरादून जाने के लिए नागेंद्र के बोलेरो वाहन को बुक कराया था। सुबह 8 बजे चालक नागेंद्र ने जाखतोली में रहने वाले संजय और उनकी बेटी रुचि को गाड़ी में बैठाया। आगे पढ़िए

यह भी पढ़ें - उत्तराखंड: पुल पर चलती कार में लगी भीषण आग, दो लोग घायल
नागेंद्र दूसरी सवारियों को लेने के लिए बैंजी कांडई जा रहा था। तभी राजकीय इंटर कॉलेज के पास गाड़ी बेकाबू होकर सड़क से करीब 15 मीटर नीचे खेत में जाकर पलट गई। हादसा होने पर वाहन सवार संजय ने गाड़ी से उतरने की कोशिश की, लेकिन दुर्भाग्यवश गाड़ी उनके ऊपर ही पलट गई। गाड़ी के नीचे दबने से संजय की मौत हो गई। हादसे की सूचना मिलते ही एसडीआरएफ की टीम घटनास्थल पर पहुंची और घायलों को रेस्क्यू कर रुद्रप्रयाग अस्पताल पहुंचाया। संजय की बेटी रुचि की हालत गंभीर बनी हुई है। उसे इलाज के लिए हायर सेंटर रेफर किया गया है। बताया जा रहा है कि वाहन चालक नागेंद्र पहले पंजाब में जॉब करता था। लॉकडाउन में उसकी नौकरी चली गई। तब नागेंद्र गांव लौटकर गाड़ी चलाने लगा। उसने कुछ दिन पहले ही बोलेरो वाहन खरीदा था, लेकिन बुधवार को हुए हादसे ने एक झटके में सब खत्म कर दिया। बोलेरो एक्सीडेंट में संजय की जान चली गई। जबकि नागेंद्र और नन्हीं रुचि अब भी अस्पताल में जिंदगी और मौत की जंग लड़ रहे हैं।

Latest Uttarakhand News

Disclaimer

हम वेबसाइट पर डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। हमारी Privacy Policy और Terms & Conditions पढ़ें, और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।