गढ़वाल से आई गुड न्यूज, नज़र आया दुर्लभ कस्तूरी मृग...जीव वैज्ञानिकों में खुशी की लहर

केदारनाथ वन्य जीव प्रभाग के चोपता रेंज में वन विभाग की टीम ने कस्तूरी मृग की दुर्लभ तस्वीर कैमरे में कैद कर ली है। आप भी देखिए उत्तराखंड से आई इस बहुमूल्य जीव की सुखद तस्वीरें

केदारनाथ वन्य जीव प्रभाग के चोपता रेंज के सौखर्क से एक सुखद खबर सामने आ रही है। "हिमालयन मस्क डिअर" नाम से मशहूर कस्तूरी मृग जो कि बेहद दुर्लभ जीव है उसकी तस्वीर वन विभाग की टीम ने अपने कैमरे में कैद कर ली है। काफी लंबे समय के बाद चोपता रेंज के जंगलों में कस्तूरी मृग की मौजूदगी दर्ज हुई है जिससे वन विभाग के अधिकारियों के बीच में भी खुशी का माहौल दिखाई दे रहा है। बता दें कि कस्तूरी मृग इस समय विलुप्ति की कगार पर पहुंच चुके हैं और उनका संरक्षण भी किया जा रहा है। चोपता रेंज के जंगलों में उनकी मौजूदगी दर्ज होना वाकई एक खुशखबरी है। उत्तराखंड राज्य में पाए जाने वाले कस्तूरी मृग प्रकृति के बनाए गए सुंदरतम जीवों में से एक हैं। यह अमूमन 2-5 हजार मीटर उंचे हिम शिखरों में पाया जाता है। यह हिमालयन मस्क डिअर के नाम से भी प्रचलित है। कस्तूरी मृग अपनी सुन्दरता के लिए नहीं अपितु अपनी नाभि में पाए जाने वाली कस्तूरी के लिए अधिक प्रसिद्ध है। बता दें कि कस्तूरी मृग बहुमूल्य है और इस कारण कई लोग इसका अवैध शिकार भी कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें - देहरादून: लच्छीवाला फ्लाईओवर पर अब आवाजाही शुरू, 3 Km की दूरी हुई कम..जानिए खूबियां
कस्तूरी मृग के अवैध शिकार के कारण यह विलुप्ति की कगार पर पहुंच चुका है और उन जानवरों की सूची में शामिल हो चुका है जिनके संरक्षण की काफी अधिक जरूरत है। चोपता के जंगलों में कस्तूरी मृग का देखा जाना वाकई एक खुशखबरी है और वन विभाग के अधिकारियों के बीच में कस्तूरी मृग की तस्वीर कैद करने के बाद से ही खुशी देखने को मिल रही है। वन विभाग की टीम इन दिनों लंबी दूरी की गश्त कर रही है और कई जगह कैमरे लगाकर दुर्लभ जानवरों को तस्वीरों में कैद करने का प्रयास कर रही है। टीम ने जंगल में गश्त के दौरान सौखर्क के पास जंगल में कस्तूरी मृग की तस्वीर कैमरे में कैद की है। उन्होंने बताया कि पहले केदारनाथ वन्य जीव प्रभाग की सेंचुरी एरिया में कस्तूरी मृग प्रजनन केंद्र खोला गया था मगर मौसम कस्तूरी मृगों ईअनुकूल नहीं होने के कारण उनकी मृत्यु हो गई थी लेकिन एक बार फिर इस क्षेत्र में से कस्तूरी मृग की मौजूदगी ने वन विभाग के बीच में उम्मीद जता दी है।

Latest Uttarakhand News

Disclaimer

हम वेबसाइट पर डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। हमारी Privacy Policy और Terms & Conditions पढ़ें, और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।