पहाड़ का ईमानदार छात्र..रास्ते में मिला 2 लाख रुपयों से भरा बैग, सीधे मालिक तक पहुंचाया

मिलिए चंपावत जिले के छात्र पवन भट्ट से जिन्होंने पौने दो लाख रुपए के बैग को उसके असली मालिक तक पहुंचा कर ईमानदारी की अनोखी मिसाल पेश की है।

उत्तराखंड के लोग अपनी सरलता और सच्चाई के लिए जाने जाते हैं। उनका ईमानदार और सच्चा होना ही सबसे बड़ा कारण है कि पहाड़ के लोग जिनसे भी मिलते हैं उनके दिलों में बस जाते हैं। उत्तराखंड के कई लोगों ने अपने ईमानदारी की मिसाल पेश की है। आज एक बार फिर से ईमानदारी की एक ऐसी ही मिसाल पेश की है उत्तराखंड के चंपावत के एक छात्र ने, जिसने पौने 2 लाख से भरा हुआ बैग उसके मालिक को वापस लौटा दिया। इतने सारे रुपए देखकर किसी के भी मन में चोर आ सकता है। अगर वे चाहते तो वे इतने सारी रकम से भरे बैग को अपने पास रख सकते थे मगर छात्र पवन भट्ट ने अपनी ईमानदारी की मिसाल करते हुए पौने 2 लाख की बड़ी रकम से भरा हुआ बैग उसके मालिक को लौटा कर यह साबित कर दिया है कि सच में उत्तराखंड के लोग बेहद सीधे, सरल और ईमानदार होते हैं

यह भी पढ़ें - सावधान..उत्तराखंड में भी बर्ड फ्लू की पुष्टि..देहरादून, ऋषिकेश, कोटद्वार, रायवाला में अलर्ट
जहां चंद रुपयों को लेकर लोगों का ईमान डोल जाता है वहां पवन ने इतनी बड़ी धनराशि को उसके असली मालिक तक पहुंचा कर पैसों के मालिक समेत कई लोगों का दिल जीता है। बैग के मालिक तो पवन की इस ईमानदारी भरे कार्य की तारीफ करते थक नहीं रहे हैं। वाकई पवन भट्ट की जगह और कोई होता तो शायद यह पैसों का बैग उसके मालिक तक नहीं पहुंचता। केवल इतना ही नहीं पवन भट्ट ने इनाम की राशि को भी अपनी जिम्मेदारी बताते हुए ठुकरा कर यह साबित कर दिया है कि वाकई उत्तराखंडी ईमानदारी के मामले में सबसे आगे हैं। चलिए अब आपको पूरे मामले की संक्षिप्त से जानकारी देते हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार मूल रूप से चंपावत जिले के निवासी पवन भट्ट राजकीय के डिग्री कॉलेज से बीए की पढ़ाई कर रहे हैं। बीते शनिवार की सुबह पवन भट्ट को टनकपुर-पिथौरागढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक होटल के पास एक बैग लावारिस पड़ा मिला। जब बैग खोल के देखा गया तो पता लगा वह रुपयों से भरा हुआ है जिसके बाद पवन भट्ट ने रुपए से भरे बैग को गिना तो उसके अंदर पौने 2 लाख रुपए पाए गए।

यह भी पढ़ें - गढ़रत्न नरेंद्र सिंह नेगी को किया गया ब्लैकमेल..17 साल के बच्चे ने दी धमकी
पवन ने अपने भाई हेम भट्ट को इस पैसे के बैग के बारे में बताया और उनका भाई भी तुरंत ही वहां पहुंचा। दोनों भाइयों ने बैग को पुलिस के हवाले करने की ठानी। दोनों भाई कोतवाली चंपावत उस बैग को देने जा ही रहे थे कि तभी बैग का असली मालिक वहां अपने पैसों की तलाश में पहुंच गया। उसके चेहरे पर परेशानी साफ तौर पर देखी जा सकती थी। जब उससे उसकी परेशानी के बारे में पूछा गया तो उसने बताया कि उसका पैसों से भरा बैग यहीं-कहीं गिर गया है और अब मिल नहीं रहा। जिस पर पवन ने व्यापारी से बैग के रंग उसकी पहचान और उसके अंदर मौजूद राशि बताने के लिए कहा और जब दोनों भाई उसके जवाब से संतुष्ट हो गए तो उन्होंने नोटों से भरा बैग उसके असली मालिक को वापस कर दिया। केवल इतना ही नहीं पवन भट्ट को व्यापारी ने धन्यवाद देते हुए इनाम देने की पेशकश की तो उन्होंने इसे अपनी जिम्मेदारी बताते हुए इनाम देने से भी इनकार कर दिया। इस पूरे मामले के बाद पूरे क्षेत्र के लोग पवन भट्ट की तारीफ करते थक नहीं रहे हैं। वहीं व्यापारी ने भी पवन भट्ट की ईमानदारी की सराहना की है और उनका आभार व्यक्त किया है।

Latest Uttarakhand News

Disclaimer

हम वेबसाइट पर डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। हमारी Privacy Policy और Terms & Conditions पढ़ें, और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।