जय हिंद: उत्तराखंड शहीद देवेन्द्र राणा को सेना मेडल..आखिरी बार पत्नी से कहा था- मिशन पर हूं

शहीद हवलदार देवेन्द्र सिंह राणा को मरणोपरांत सेना मेडल से नवाज़ा गया है। जानिए उनकी वीरता की कहानी

इन वीरों ने मातृभूमि के लिए अपनी जांन दांव पर लगा दी। देश की रक्षा के लिए अपने प्राण कुर्बान कर देने वाले इन वीरों को हमारा सलाम। उत्तराखंड के दो सपूतों को मरणोपरांत सेना मेडल से नवाजा गया है। शहीद हवलदार देवेन्द्र सिंह राणा और शहीद पैरा ट्रूपर अमित कुमार अणथवाल को ये सम्मान मिला है। बीते साल अप्रैल के महीने में जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में आतंकवादियों के साथ हुई मुठभेड़ में सेना की 4-पैरा स्पेशल फोर्स के कमांडो दस्ते ने 5 आतंकवादियों को मार गिराया था। आतंकियों से इस मुठभेड़ में रुद्रप्रयाग जिले की बसुकेदार तहसील के ग्राम तिनसोली निवासी हवलदार देवेंद्र सिंह राणा भी शहीद हुए थे। शहीद देवेंद्र का परिवार देहरादून जिले के छिद्दरवाला में किराये के मकान पर रहता है। उनकी बेटी आंचल व बेटा आयुष केंद्रीय विद्यालय रायवाला में पढ़ रहे हैं। उनके पिता भूपाल सिंह राणा, मां कुंवरी देवी व छोटा भाई गांव में ही रहते हैं। 3 अप्रैल साल 2020 को हवलदार देवेंद्र सिंह राणा ने फोन पर पत्नी विनीता से बात की थी। उस दौरान वो आतंकवादियों से लोहा लेने के लिए कुपवाड़ा जिले के केरन सेक्टर की ओर रवाना हो रहे थे। हालांकि नियति को कुछ और ही मंजूर था। मिशन पूरा तो हुआ और पांच आतंकवादी भी मारे गए। लेकिन देवेंद्र को भी देश के लिए शहादत देनी पड़ी। पति की शहादत की खबर सुनकर पत्नी विनीता बेसुध हो गई थी।

Latest Uttarakhand News

Disclaimer

हम वेबसाइट पर डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। हमारी Privacy Policy और Terms & Conditions पढ़ें, और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।