उत्तराखंड: जंगल की आग बुझाने देहरादून पहुंचा वायुसेना का हेलीकॉप्टर..सबसे पहले होगा ये काम

जंगल की आग पर काबू पाने के लिए केंद्र ने राज्य सरकार को दो हेलीकॉप्टर उपलब्ध कराए हैं। इनमें एक गौचर और दूसरा हल्द्वानी से निगरानी रखेगा।

गर्मी बढ़ने के साथ ही प्रदेश में जंगलों में आग लगने की घटनाएं भी बढ़ने लगी हैं। स्थिति इतनी गंभीर है कि राज्य सरकार को जंगलों की आग बुझाने के लिए केंद्र से मदद मांगनी पड़ी। आग लगने से अब तक 1291 हेक्टेयर वन क्षेत्र प्रभावित हो चुका है। 4 लोगों की जान गई है, दो लोग झुलसे भी हैं। कई मवेशी भी आग की भेंट चढ़ गए। आग बुझाने में आ रही दिक्कतों को देखते हुए राज्य सरकार ने केंद्र से मदद मांगी थी। जिस पर केंद्र ने राज्य सरकार को दो हेलीकॉप्टर उपलब्ध करा दिए हैं। इनमें एक गौचर और दूसरा हल्द्वानी से निगरानी रखेगा। केंद्र द्वारा उपलब्ध कराए गए दो हेलीकॉप्टर में से एक देहरादून पहुंच गया है। वायुसेना का हेलीकॉप्टर आज सुबह 8 बजकर 30 मिनट पर जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर उतरा। दिल्ली से अभी एक और हेलीकॉप्टर आना है। वायुसेना के इन हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल जंगल में लगी आग बुझाने के लिए किया जाएगा।

यह भी पढ़ें - गढ़वाल: जंगल में लगी भीषण आग... प्राथमिक विद्यालय जलकर राख
बता दें कि उत्तराखंड के सीएम तीरथ सिंह रावत ने पर्वतीय क्षेत्रों के जंगल में बढ़ती आग की घटनाओं पर काबू पाने के लिए केंद्र से मदद मांगी थी। उन्होंने दो हेलीकॉप्टर उपलब्ध कराने का अनुरोध किया था। मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए गृहमंत्री अमित शाह ने हर संभव मदद का आश्वासन दिया है। मुख्यमंत्री और केंद्रीय गृह मंत्री के बीच फोन पर बातचीत हुई थी। इसी कड़ी में वायुसेना का एक हेलीकॉप्टर देहरादून के जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर पहुंच चुका है। प्रदेश में जंगल की आग विकराल होने के साथ ही एसडीआरएफ को भी अलर्ट कर दिया गया है। एसडीआरएफ यूनिट मिस्ट ब्लोअर के जरिए आग बुझाने में सहयोग कर रही है। सीएम ने ट्वीट के जरिए कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री ने जरूरत के हिसाब से हर संभव सहायता का भरोसा दिया है। केंद्र की तरफ से दो हेलीकॉप्टर भेजे जा रहे हैं। इनमें से एक हेलीकॉप्टर श्रीनगर बांध तो दूसरा भीमताल से पानी भरकर आग बुझाने का काम करेगा।

Latest Uttarakhand News

Disclaimer

हम वेबसाइट पर डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। हमारी Privacy Policy और Terms & Conditions पढ़ें, और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।