सावधान! उत्तराखंड में 5 Km लंबे ग्लेशियर ने बदला रास्ता, जानिए अब क्या होने वाला है

वाडिया हिमालयन भू-विज्ञान संस्थान के वैज्ञानिकों ने शोध में पाया कि एक अनाम ग्लेशियर (Uttarakhand unnamed glacier changed course) दूसरी घाटी के क्षेत्र में प्रवेश कर गया।

वाडिया हिमालयन भू-विज्ञान संस्थान के वैज्ञानिकों ने शोध में एक बड़ा खुलासा किया है। इस शोध के मुताबिक उत्तराखंड में एक अनाम ग्लेशियर (Uttarakhand unnamed glacier changed course) ने अपना रास्ता बदल दिया है। ये ग्लेशियर पिथौरागढ़ में ऊपरी काली गंगा घाटी का एक अनाम ग्लेशियर बताया जा रहा है। शोध में जानकारी मिली है कि ये ग्लेशियर अपनी घाटी से हटकर सुमजुर्कचांकी ग्लेशियर वाली घाटी में प्रवेश कर गया है। वैज्ञानिकों का मानना है कि टेक्टोनिक प्लेट में अंदरूनी हलचल इसकी वजह है। इसके अलावा जलवायु परिवर्तन भी इसकी बड़ी वजह है। ये पहली बार है कि इस ग्लेशियर में इस तरह के बदलाव की जानकारी मिली है। ये ग्लेशियर करीब पांच किलोमीटर लंबा है। आपको ये बात भी जाननी चाहिए कि ये ग्लेशियर कुठीयां की घाटी में करीब 4 वर्ग किलोमीटर एरिया को कवर करता है। ग्लेशियर लैंड फार्म पर आधारित ये शोध जियो साइंस जर्नल में प्रमुखता से प्रकाशित हुआ है। आगे पढ़िए
यह भी पढ़ें - उत्तराखंड: 4 दिन बाद बेटी की शादी, कार्ड बांटकर लौट रहे पिता की मधुमक्खियों के हमले में मौत

Latest Uttarakhand News

Disclaimer

हम वेबसाइट पर डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। हमारी Privacy Policy और Terms & Conditions पढ़ें, और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।