गढ़वाल: आखिर कब मिलेगा अंजू को इंसाफ? शराबी पति ने पीट-पीटकर बुरा हाल कर दिया

आज आपको हम पौड़ी गढ़वाल जिले के पोखडा ब्लॉक के भटकल गांव की अंजू देवी की आपबीती बता रहे हैं। आप भी पढ़िए

सरकार ने भले ही महिलाओं के हित में बड़े बड़े कानून बनाये है लेकिन तब भी महिला उत्पीड़न लगातार बढ़ रहे हैं..उत्तराखंड के पहाड़ों में पहले ऐसा नही होता था लेकिन अब लगातार ऐसी घटनाएं होती जा रही हैं..आज आपको हम पौड़ी गढ़वाल जिले के पोखडा ब्लॉक के भटकल गांव की अंजू देवी की आपबीती बता रहे हैं। उनके साथ हो रहे उत्पीड़न की कहानी जानकर आपको भी दुख होगा। अंजू देवी की शादी 10 साल पहले मटकल गांव के बालकृष्ण पुत्र जनार्दन के साथ हुई थी। दो साल तक तो सब ठीक ही चल रहा था लेकिन बालकृष्ण धीरे धीरे शराब का आदी होने लगा।अधिक शराब पीने के कारण घर में कलह शुरू हो गई। आपसी झगड़े ने मारपीट का रूप ले लिया। आए दिन बेचारी अंजू देवी पति की मार सहती रही। इसी दौरान उसके दो बच्चे हुए लेकिन घर में बच्चे आने के बाद भी बालकिशन की शराब पीने और मारपीट करने की आदत में सुधार नहीं हुआ। जानकारी के मुताबिक बीते 28 मार्च से अंजू का पति हर दिन उसे पीट रहा है। उसने राजस्व पुलिस उप निरीक्षक से संपर्क किया तो वहां पर कानूनगो भी मौजूद थे। आरोप है कि कानूनगो ने छूटते ही महिला को कहा कि पति ने ही तो मारा ,आखिर पति है तुम्हारा। हैरानी की बात है कि कानूनगो ने महिला का न तो मेडिकल करवाना उचित समझा, न ही उनका साथ देने की। जब अंजू देवी को मदद नही मिली तो उन्होंने सामाजिक कार्यकर्ता शैलेंद्र भारतीय से संपर्क किया। अब शैलेंद्र भारतीय ने अंजू देवी पर हो रहे अत्याचार की कहानी हमारे संवाददाता को दी।
यह भी पढ़ें - पहाड़ में ये हाल है...अस्पताल की OPD में घुसा सांड, मरीजों में अफरा-तफरी

Latest Uttarakhand News

Disclaimer

हम वेबसाइट पर डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। हमारी Privacy Policy और Terms & Conditions पढ़ें, और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।