केदारनाथ धाम के लिए हेलीकॉप्टर सेवा..1 अप्रैल से बुकिंग शुरू, किराए में राहत

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने हेली सेवा को स्वीकृति देने के साथ ही यात्रियों को बड़ी राहत भी दी है। हेली सेवा का किराया नहीं बढ़ाया गया है।

प्रदेश में चारधाम यात्रा की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं।17 मई को प्रातः पांच बजे विश्व प्रसिद्ध बाबा केदारनाथ धाम के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोले जाएंगे। श्रद्धालु हेली सेवा के माध्यम से बाबा केदारनाथ के धाम पहुंच सकेंगे। हेली सेवा के लिए इस साल 1 अप्रैल से बुकिंग शुरू हो जाएगी। हेली सेवा और किराये से जुड़ी हर जानकारी राज्य समीक्षा आप तक पहुंचाएगा। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने हेली सेवा को स्वीकृति देने के साथ ही यात्रियों को बड़ी राहत भी दी है। हेली सेवा का किराया नहीं बढ़ाया गया है। इस तरह तीर्थयात्री इस साल पुरानी दरों पर ही हेली सेवा का लाभ ले सकेंगे। नागरिक उड्डयन सचिव दिलीप जावलकर ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि 1 अप्रैल से केदारनाथ के लिए हेली सेवा की बुकिंग शुरू हो जाएगी। बुकिंग शुरू करने के लिए मुख्यमंत्री की अनुमति प्राप्त हो गई है। हेली टिकट की ऑनलाइन बुकिंग जीएमवीएन के जरिये होगी। हेली सेवा के लिए विभाग ने पिछले साल चुने गए ऑपरेटरों से तीन साल तक सेवाएं देने का कॉन्ट्रैक्ट किया है। इस तरह पूर्व में तय ऑपरेटर ही इस साल भी हवाई सेवाएं संचालित करेंगे। आगे पढ़िए

यह भी पढ़ें - उत्तराखंड से बड़ी खबर..लॉकडाउन के दौरान दर्ज किए गए 4500 मुकदमे होंगे वापस
ऑपरेटर पिछले साल के किराये पर ही इस साल भी सेवाएं देंगे। 70 फीसदी टिकट ऑनलाइन उपलब्ध कराएं जाएंगे। चलिए अब हेली सेवा का किराया जान लेते हैं। गुप्तकाशी से केदारनाथ धाम जाने के लिए यात्रियों को एक तरफ के किराये के तौर पर 3875 रुपये देने होंगे। इसी तरह फाटा से एक तरफ का किराया 2360 रुपये तय किया गया है। जबकि सिरसी से केदारनाथ धाम पहुंचने के लिए 2340 रुपये खर्च करने होंगे। आप संबंधित वेबसाइट https://heliservices.uk.gov.in पर जाकर हेली सेवा का टिकट बुक करा सकते हैं। बता दें कि पिछले साल कोविड के चलते शुरुआत में चारधाम यात्रा संचालित नहीं हो पाई थी। हालांकि बरसात के बाद करीब एक महीने तक धाम में हेली सेवाओं का संचालन शुरू हुआ। अब 17 मई से एक बार फिर केदारनाथ धाम की यात्रा शुरू होने वाली है। उम्मीद है हर साल की तरह इस बार भी लाखों पर्यटक बाबा केदार के दर्शन करने उत्तराखंड आएंगे।

Latest Uttarakhand News

Disclaimer

हम वेबसाइट पर डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। हमारी Privacy Policy और Terms & Conditions पढ़ें, और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।